Friday, 31 July 2015

काश हमारी भी एक बेटी होती !!!!!!!!

I think every couple dreams of a baby girl in their life. Me & hub too wanted a baby girl but God blessed us with a cute baby boy. From then in my inner mind i was thinking some times (told hub also) "i wish i could had a daughter"....Recently, one of my friend posted a poem on daughters for daughters week. Inspired by that poem i wrote this poem. 


काश हमारी भी एक बेटी होती 
चाँदनी सी गोरी परी सी सुंदर होती 
हम उसके तरफ प्यार भरी निगाहों से देखते 
गले पड़कर बोलती " माँ, तू मुझे बहुत  है भाती "
घर भर में पायल खनक ने की आवाज़ होती 
उसकी मीठी आवाज़ घर में गूँज थी रहती 
अपने घर की रौनक तो वो है ही 
एक दिन दूसरे की घर की रौनक भी बन जाति 
फिर उसकी याद में मन खोया रहता 
उसकी यादों में दिल रोता रहता 
उससे मिलने केलिए मन तड़पता रहता 
उसकी आवाज़ सुनने केलिए कान तरसते रहते 
जब भी वह हमसे मिलने आती 
गले लगकर बोलती "माँ , तू मुझे बहुत है भाती "
काश हमारी भी एक बेटी होती 
पापा की लाड़ली माँ की दुल्हारी होती 

                                                  - रेविना 




Thursday, 23 July 2015

हम क्या करें ???


हमने ज़िंदगी से कभी शिकायत नहीं किया 
अगर ज़िंदगी हमसे खफा है तो 
हम क्या करें ???

हमने कभी भी अपनों को गैर नहीं समझा 
अगर अपने ही हम्हे गैर समझने लगे तो 
हम क्या करें ???

हमने कभी भी रिश्तों से मुँह नहीं मोड़ा 
अगर रिश्तेदार हमसे मुँह मोड़ ले तो 
हम क्या करें ???

हमने कभी भी दोस्ती को नज़र अंदाज़ नहीं किया 
अगर दोस्त हम्हे नज़र अंदाज़ करने लगे तो 
हम क्या  करें ???

हमने कभी भी दुनियावालों का बुरा नहीं चाहा 
अगर दुनियावाले हमें अच्छे नहीं समझते तो 
हम क्या करें ???

                                           - रेविना 


Monday, 20 July 2015

ज़िन्दगी से क्या सीखा ...!!!!!

When i was young i mean 15 yrs old, one day i asked my brother i mean cousin "what is your aim in life ? or what do you want from life?". He replied "I want to die a peaceful death ". I laughed at him & said "really !!! but i want to live a unforgetable life". That time he said " you are still a child my sis, u didn't see what is life still...when you experience that, you will also repeat my words". Today he is nomore...but i still remember his words...and yes now even i want to die a pieceful death. What life taught me is...when you can't change your life, accept it as it is & be happy with it. I tried to express my feelings through this poem...hope you all will like it....


जब हम बच्चे थे और जवान थे 
तब ज़िंदगी को सुधारने की कोशिश की थी 
अब हमने आधी ज़िंदगी गुज़ार ली है 
और ज़िंदगी ने हम्हें सुधारा है 
ज़िंदगी ने सिखाया है … 
जब वक़्त को आप बदल नहीं सकते 
वक़्त के साथ आप बदल जाओ 
जब जीतने की कोशिश करके हार गए हो तो 
तब हार को ही जीत मानना सीख लो 
ज़िंदगी तब और भी खूबसूरत दिखने लगेगी 
जीने की इच्छा आप के मन में बड़ जाएगी 
बीते हुए कल को आप बदल नहीं सकते 
आनेवाले कल को आप परख नहीं सकते 
जो है वो आज है यह बात आप ठुकरा नहीं सकते 
तो जी लो इन पलों को मेरे यार 
और बनाओ इसे मज़ेदार और यादगार 

                                                        - रेविना 


Saturday, 18 July 2015

MY NAME IS REVINA, HOW IS IT ???

Oh my God !!!! yesterday i really got a surprise from one of my good friend cum relative....she changed the lyrics of the song "My name is Antony Gonsalvis" from the film AMAR AKBAR ANTONY & wrote a new song about my blog...i m so excited & happy to read this. I hv decided that i will continue this song & wrote 2 paras. So, here is the result of joint efforts.
Actually i wanted to mention her name in this post but she strictly told that not to mention her name. So, by respecting her feelings i didn't mentioned her name here. But really soooooo sweet of her to take time & write a poem about my blog :)))))) She promised me she will write such songs more & more in future...eagerly waiting for that...


ORIGINAL SONG:-
----------------------------------------------------------------------------

my name is anthony gonsalves 
main duniya mein akela hoon 
dil bhi hai khaali ghar bhi hai khaali 
ismein rahegi koi kismat wali 
haay jise meri yaad aaye jab chaahe chali aaye… (2)
roopanagar premagali kholi nambar chaar sau bees 
my name is ... 

abhi-abhi isi jagah pe ik ladaki dekhi hai 
are dekhi hai aji dekhi hai 
abhi-abhi isi jagah pe ... 
jo mujhe ishaare karti hai par kisi se shaayad darti hai 
are darti hai aaha darti hai uf 
pyaar karegi kya darane wali 
meri banegi koi himmat wali 
to jise meri yaad aaye ... 

bade-bade log yahaan hain lekin ye yaad rahe 
are yaad rahe aji yaad rahe 
bade-bade log yahaan ... 
sachha pyaar gareebon ka baaki hai khel naseebon ka… (2) 
dil ki ye baaten jag se niraali 
ye kya samajhegi koi daulat wali 
to jise meri yaad aaye ... 

SONG WRITTEN BY ME & MY FRIEND:-


My name is ReViNa , how is it ?
Main khana banane ki.shaukeen hoon
Paneer banayee… mushroom banayee…
Roti ke saath ye sab chak ke mein khayee
Are..Jo bhi ye sab banana chahe.. Jab chahe chale aye(2)
 Kyon ki… mere blog me hai in sab khane ki list
 Excuse me please…

Abhi abhi kisi page pe ek recipe dekhi hai
aji dekhi hai haan ji dekhi hai
jo mujhe pasand tho aayi hai par karne se mein tho darr thi hai
are darr thi hai ahaa darr thi hai uff
khana banayegi...kya darr ne waali
recipe try karegi koi himmathwaali
Are..Jo bhi ye sab banana chahe.. Jab chahe chale aye
Kyon ki… mere blog me hai in sab khane ki list
Excuse me please…

bade-bade recipe yahaan hain lekin ye yaad rahe 
are yaad rahe aji yaad rahe 
bade-bade recipe yahaan ... 
achha khaana banaane ka baaki hai khel naseebon ka… (2) 
pet ki ye baaten dil se nikaali
ye kya samajhenge yeh duniya waale 
Are..Jo bhi ye sab banana chahe.. Jab chahe chale aye
Kyon ki… mere blog me hai in sab khane ki list
Excuse me please…
Are..Jo bhi ye sab banana chahe.. Jab chahe chale aye
Kyon ki… mere blog me hai in sab khane ki list
Excuse me please…





Tuesday, 14 July 2015

पहला प्यार और पहली बारिश !!!!!!!

I always felt, what i liked most is that hurted me most. It may be person, moments , place or anything...so  when i thought of writing a poem about it, i got these two examples....first rain & first love...so, tried to describe it through poem. 


पहला प्यार और पहली बारिश एक जैसे होते हैं 
इसमें जितना चाहे भीग जाने को जी चाहता है 
पागलों की तरह दिल नाचने को करता है 
प्यार भरे गानों को मन गुन गुनुनाना चाहता है 
पहली बारिश की मिठ्ठी की खुशबू  औऱ प्यार एक जैसा होता है 
जिसे मन हर घडी आसमाना चाहता है 
पानी की टपकती बूँदें और प्यार से तड़पता मन एक जैसे होते हैं 
जो हर घडी हम्हे किसी की याद दिलाती रहती है 
बारिश मे भीग कर इन्सान मज़ा तो लेता है फिर बीमार पड़ता है 
प्यार में आदमी ख़ुशी तो पाता है बाद में दुःख भी झेलना पड़ता है 
लेकिन सच तो सब जानते हैं कोई इनकार भी नहीं है  करता
फिर भी सब का मन एक  बार बारिश में भीगने का प्यार करने का है करता 
कुदरत का करिश्मा ही ऐसा जो चीज़ हम्हे सबसे ज़्यादा सुख देती है 
बाद में वही चीज़ हम्हे सबसे ज़्यादा दुःख पहुँचाती है 

                                                                                            - रेविना 

काश ......!!!!!!!!!!!!!

SOMETIMES I THINK WE ALL SHOULD GET A CHANCE TO RELIVE OUR LIFE. SO THAT WE CAN CORRECT SOME MISTAKES, ACHIEVE SOMETHING, REJOICE SOME HAPPY  MOMENTS. ACTUALLY , SOMETIMES WE WANT TO SAY SOMETHING BUT WE KEEP QUIET BY THINKING "IT IS NOT MUCH IMPORTANT...LEAVE IT" . BUT AFTER FEW YEARS WE START REGRETTING FOR IT. SOMETIMES, WE WANT TO DO SOMETHING BUT WE DON'T DO IT BY THINKING WHAT OTHERS WILL SAY & AFTER SOME YEARS WE START REGRETTING "SSHE, I WOULD HAVE DONE THAT...I WOULD HAVE ENJOYED MY LIFE"....WHEN LIFE GIVES US CHANCE TO ACHIEVE SOMETHING, WE DONT USE IT. BUT WE REGRETT FOR IT LATER. DON'T KNOW WHY EVERYONE DO LIKE THIS...MAY BE THIS IS OUR DESTINY & WE HAVE TO ACCEPT IT... BY THINKING ALL THESE THINGS WROTE THIS POEM.



काश हम एक बार वक़्त को पीछे ले जा पाते 
कुछ हसीन पलों को फिर से जी लेते 
काश हम ज़िंदगी के कुछ पन्नों को मीठा पाते 
कुछ अनचाही यादों को दिल से मीठा लेते 
काश ज़िंदगी हम्हे एक बार और जीने का मौका देती 
ज़िंदगी से जो भी शिकायते हैं उसे दूर कर लेते 
काश वक़्त कुछ देर तक हमारा साथ देता 
कुछ अधूरे सपनो को पूरा कर लेते 
काश यह दुनियावाले हम्हे समझपाते 
तो हम भी दुनियावालों को अपनी मन की बात बता देते 
ज़िंदगी और लोगों से कुछ ज़्यादा उमीदें या शिकायतें नहीं हैं 
लेकिन एक बार अपने आप को साबीत करने का मौका ज़रूर मांगते 

                                                                                   - रेविना 


वादा !!!!!!

NOW A DAYS, I M THINKING THAT GOD TESTS ONLY THEM WHO HAVE COURAGE TO FACE PROBLEMS..& WHO HAVE ABILITY TO PROVE THEMSELVES. SO, BASED ON THIS THINKING WROTE THIS POEM.



भगवान मुश्किलें सिर्फ उन्ही को देता है 
जिन्हे मुश्किलें झेलने की ताकत होती है 
भगवान इम्तिहान  सिर्फ उन्ही का लेता है 
जिनसे इम्तिहान पार करने की उम्मीद होती है 
लगता है भगवान को हम पे सबसे ज़्यादा भरोसा है 
इसलिए हम इम्तिहान पे इम्तिहान दिए जा रहे हैं 
ये खुदा यह वादा है हमारा आपसे 
निराश न करेंगे तुम्हे इतना भरोसा जो किया है हम पे 

                                                                    - रेविना